बिजनेस प्लान कैसे बनाए?

किसी भी बिज़नेस/व्यापार को शुरू करने से पहले प्लानिंग (Planning) एक बहुत ही जरूरी प्रक्रिया हैं और लिखित बिज़नेस प्लान बनाना इस प्रक्रिया को बेहतर बनाते हैं। किसी सेल्फ इन्वेस्टमेंट में बिज़नेस  प्लान की कोई जरूरत नहीं है लेकिन बैंक लोन या इन्वेस्टर से करे business के लिए एक प्लान की जरूरत होती है बिज़नेस प्लान एक तरह से आपके बिज़नेस का नक्शा (Road Map) या ब्लूप्रिंट होता हैं जिसमें आपके बिज़नेस की सामान्य जानकारी, व्यवसाय के लक्ष्य आदि बातें लिखी होती हैं। इस पोस्ट मे आपको एक सही business plan बनाने की जानकारी मिलेगी इसलिए  इसे ध्यान से पढ़िये।

Business plan kaise banaye

बिज़नेस प्लान क्या है?

कोई भी काम को शुरू करने से पहले उसकी योजना बनाई जाती है। यही बात बिज़नेस पर भी लागू होती है तो योजना का लिखित रूप Business Plan कहलाता है। बिज़नेस प्लान एक ऐसा डॉक्युमनेट है जो किसी नए Business के ‘क्या’, ‘क्यों’ और ‘कैसे’ जैसे सभी प्रश्नों का उत्तर देता है। बिज़नेस प्लान सिर्फ स्टार्ट-अप के लिए ही नहीं बनती है बल्कि स्थापित (Established) business के लिए भी बन सकता है । समय-समय पर परिस्थितियों के अनुसार बिज़नेस प्लान में बदलाव भी किए जा सकते है।


बिज़नेस प्लान क्यों बनाया जाता है ?

आप यह सोचते होंगे हैं कि बिज़नेस प्लान को बनाने की जरूरत क्यों है। अपने बिज़नेस प्लान के माध्यम से आप अपने निर्धारित लक्ष्यों का लिखित रूप और उन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए क्या रणनीति बना रहा है, ये स्पष्ट रूप से बताता है। व्यावसायिक योजना या बिज़नेस प्लान निम्न उद्देश्यों के लिए भी बहुत जरूरी होता हैं जेसे:-

• बैंक में बिज़नेस लोन के लिए अप्लाई करना,

• अपने  स्मॉल बिज़नेस (Small Business) या स्टार्ट-अप के लिए Venture Capital Firm या Crowdfunding जैसे अन्य तरीकों से फण्ड (Fund) जुटाना,

• बिज़नेस से सम्बंधित किसी भी प्रकार की सब्सिडी (Subsidy) या कोई स्कीम (Scheme) के लिए अप्लाई करना,

• बिज़नेस पार्टनरशिप और फ्रेंचाइजी आदि के लिए।


एक अच्छी तरह से बनाए गए Business Plan से न केवल बैंक और अन्य बाहरी स्त्रोतों से वित्त (Funding or Finance) प्राप्त करना सरल होता है बल्कि Internal Operations में भी यह सहायक होता है।

Read More- सबसे ज्यादा मुनाफे वाला Businesses

अच्छा बिजनेस प्लान कैसे बनाए?

किसी भी काम में सफलता के लिए योजना बनायीं जाती हैं। यदि बिज़नेस में सफल होना हो तो प्लानिंग जबरदस्त होनी चाहिए। बिज़नेस स्टार्ट करना आसान काम है लेकिन उसे continue रखना और उसमे सफल होना अलग बात है कोई भी व्यवसाय शुरू करने से पहले उसकी योजना Business Plan के रूप में तैयार की जाती है। इसलिए एक अच्छे बिज़नेस प्लान को बनाने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखा जाता है। ये निम्न प्रकार है:-

• इस बिज़नेस प्लान को बनाने का Core Objective क्या है ?

• बिज़नेस प्लान को किन लोगों के लिए बनाया जा रहा है । अथार्थ इसे पढ़ने वाले लोगों में Investors या Bankers हैं जिनका धन व्यवसाय में इन्वेस्ट हुआ है ?

• आपके बिज़नेस प्लान में क्या-क्या शामिल है?

• आपको एक संक्षिप्त या विस्तृत बिज़नेस प्लान चाहिए ?


जब इन प्रश्नों का उत्तर मिल जाता है तो एक व्यवसायी अपना बिज़नेस प्लान बनाना शुरू करता है। किसी भी एक सफल और स्पष्ट Business Plan में निम्न विषयों पर ध्यान Focus दिया जाता हैं:-

1. बिजनेस का उदेश्य क्या है,
2. Business के स्पष्ट विवरण का वर्णन,
3. व्यवसाय के उत्पाद और सेवाएँ क्या हैं,
4. मार्केट विश्लेषण में सहायक,
5. व्यावसायिक ढांचे का विवरण,
6. संसाधनों का उपयोग,
7. लक्ष्य निर्धारण।

बाजार विश्लेषण:

इसमें आपके प्रोडक्ट (Product) या सेवाओं (Service) के Target Market से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण बातों का एनालिसिस किया जाता हैं जैसे:-

• टारगेट मार्केट, मार्केट साइज़ और डिमांड,

• आप किसे बेचेंगे–टारगेट कस्टमर (Customer), उनका व्यवहार, वर्ग और खरीद शक्ति (Purchasing Power),

• आपके competitors कौन हैं और उनके पास कितना मार्किट शेयर (Market Share) हैं, उनकी शक्तियां और कमजोरियां,

• भविष्य में डिमांड और मार्केट में होने वाले महत्वपूर्ण परिवर्तन।

Read More- गांव मे कौनसा Business करें?


बाजार रणनीति:

बिज़नेस प्लान का यह भाग बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। इस भाग में उन सभी नीतियों का वर्णन होता है जो आप अपने प्रोडक्ट और सर्विसेज को कस्टमर तक पहुँचाने और Market Promotion के लिए प्रयोग में लाना चाहते हैं। इस भाग के अंतर्गत आपको निम्न बातों को निर्धारित करना होता हैं जेसे:-

• आपके Product या Service मार्केट में अपनी जगह कैसे बनायेंगे,

• आपके टारगेट कस्टमर कौन हैं जो सबसे पहले आपके प्रोडक्ट या सर्विसेज में रुचि दिखायेंगे और आप उन तक कैसे पहुंचेंगे,

• आपकी प्राइसिंग पॉलिसी (Pricing Policy) क्या होगी,

• आप अपने Product या Service को किस तरह से प्रमोट (Promote) करेंगे जैसे Direct Marketing, Advertisement Social Media etc.

• आप किस तरह से अपने प्रोडक्ट या सर्विसेज को कस्टमर तक पहुंचाएंगे–डिस्ट्रीब्यूशन चेनल,

• आपकी सेल्लिंग स्ट्रेटेजी (Selling Strategy) क्या होगी?


कार्यप्रणाली:

इस भाग में Business Operations यानि कि “व्यवसाय कैसे चलेगा” इससे सम्बंधित सभी बातों की विस्तृत जानकारी होती हैं जैसे-

बिजनेस जगह (Business Place) – आप किस जगह पर अपना व्यवसाय करेंगे।क्या आप जगह खरीदेंगे या किराये पर लेंगे।

प्रोडक्शन (Production Facility and System) – आपके पास प्रोडक्शन फैसिलिटी किस प्रकार की हैं और क्या यह जरूरत के मुताबिक हैं।

परचेस प्लान (Purchase Plan)–आप अपने इनपुट्स (Inputs) को किस तरह से खरीदेंगे और क्या यह सबसे बेहतर तरीका हैं।

प्रोडक्शन प्लान (Production Plan)– आप किस प्रकार अपने प्रोडक्ट का उत्पादन करेंगे| डिमांड के आधार पर या एस्टिमेट्स (Estimates) के आधार पर।

वर्कफोर्स स्ट्रक्चर (Workforce Structure and their Roles) – आपके कर्मचारियों के पद, कार्यक्षेत्र और उनकी जिम्मेदारियां।

टेक्नोलॉजी (Systems and Information Technology)– आपके व्यवसाय का मुख्य IT सिस्टम किस तरह का होगा

भण्डारण (Store Facility)– आप कितना Stock रखेंग और कहाँ पर रखेंगे।


वित्तीय योजना:

किसी भी बिज़नेस प्लान का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा वित्तीय योजना होता हैं क्योंकि इस भाग में  आपके व्यवसाय की सारी महत्वपूर्ण बातों और Projection को फिगर्स या नंबर्स में प्रस्तुत करता हैं| इसी भाग से बैंक या वेंचर फर्म को आपके व्यवसाय की वित्तीय स्थिति और पूँजी की आवश्यकता का पता चलता हैं जिसके आधार पर बैंक, लोन देती हैं और Venture Capital Firms, निवेश करते हैं| यह हिस्सा मुख्य रूप से निम्न बातों पर केन्द्रित होता हैं जैसे:-

• आपको व्यापार के लिए कितनी पूँजी या Fund की जरूरत हैं और इसका उपयोग कहाँ कहाँ पर करेंगे – Capital/Fund Requirement

• आप इस पूँजी को कैसे जुटाएंगे–Loan, Venture Funding, Crowd Funding.

• आप कितने वर्ष के लिए लोन लेंगे, इसकी सिक्योरिटी (Security) क्या होगी और इसका पुनर्भुगतान कैसे करेंगे.

• आपके बिज़नेस के Revenue/Income Sources क्या होंगे – Sales, Other Incomes

• आपके बिज़नेस के खर्चे (Exepnditure) क्या होंगे– Purchases, Interest Payment, Rent etc.

• Sales, Revenue और Expenses के आधार पर आपके बिज़नेस के अगले 3-5 वर्षों पि और हानि आदि।

कुछ आखरी Lines:


बिज़नेस प्लान आपके व्यवसाय का सबसे महत्वपूर्ण दस्तावेज हैं जो आपके Business को आगे बढ़ाने में निरंतर रूप से आपको गाइड करता है। इसलिए इसका निर्माण बहुत ध्यान पूर्वक करना चाहिए।

आशा करते हैं कि आपको ये पोस्ट से कुछ जरूरी जानकारी मिले होंगे अगर ये पढ़के आपको अच्छा लगा हो तो इसे अपनी दोस्तो और रिस्तेदरो के साथ share कीजिए।

🙏 😊

7 Comments

  1. Pingback: घर से करने वाला Business ideas in हिंदी

  2. Pingback: Per day 1000 रुपया कैसे कमाए?

  3. Pingback: Biscuits का Business कैसे करें? (2021)

  4. Pingback: Disposal Glass की business in हिन्दी

  5. Pingback: Sindoor का Business कैसे करें- हिन्दी मे जानिये

  6. Pingback: Event Management Business कैसे शुरू करें?

  7. Pingback: दुकान की तरक्की कैसे करें? (2021)

Write A Comment